95 Shares 111 Views
00:00:00
19 Nov
13062053_1077508628976454_533372367504334808_n

रसगुल्ला बंगाल का, उड़ीसा हुआ मायूस

सिलीगुड़ी टाइम्स प्रतिनिधि: Nov 14, 2017

रसगुल्ले पश्चिम बंगाल की ही शान है। रसगुल्ले को लेकर काफी दिनों से चल रही उड़ीसा और पश्चिम बंगाल की लड़ाई में अंततः जीत पश्चिम बंगाल की ही हुई। रसगुल्ले का जीआइ रजिस्ट्रेशन पाने के कारण पश्चिम बंगाल और उड़ीसा में लड़ाई चल रही थी।

अंत में जीआइ की ओर से बताया गया कि रसगुल्ला संपूर्ण रूप से बंगाल की ही सृष्टि है। कुछ सालों पहले उड़ीसा ने रसगुल्ला उनके राज्य की धरोहर होने का दावा किया था। उन्होंने कहा था कि पुरी के मंदिर में जगन्नाथ देव को रसगुल्ले का भोग लगाया जाता था।

यहां तक कि उड़ीसा ने रसगुल्ले के जीआइ रजिस्ट्रेशन की भी मांग की थी। इतना ही नहीं रजिस्ट्रेशन हासिल करने के लिये उड़ीसा ने रसगुल्ला दिवस भी मनाना शुरू कर दिया था।

इसके बाद इसका विरोध करते हुए पश्चिम बंगाल की ओर से बताया गया कि पुरी के मंदिर में भगवान जगन्नाथ को जिस मिठाई का भोग लगाया जाता था, वह रसगुल्ले बिल्कुल भी नहीं थे।

बंगाल की ओर से बताया गया कि बंगाली समुदाय का अहंकार है रसगुल्ले। मंगलवार को ज्योग्रफिकल आइडेंटिफिकेशन ने पश्चिम बंगाल को रसगुल्ले का जीआइ रजिस्ट्रेशन दिया।

इंटरनेट फोटो

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Shares
error: Content is protected !!