Home / उत्तर बंगाल / बार-बार फोन करने पर भी नहीं आया मातृयान, अस्पताल पहुंचने में हुई देरी के कारण 17 दिन की बच्ची की मौत

बार-बार फोन करने पर भी नहीं आया मातृयान, अस्पताल पहुंचने में हुई देरी के कारण 17 दिन की बच्ची की मौत

ठीक समय पर अस्पताल नहीं पहुंच पाने के कारण एक 17 दिन की बच्ची की जान चली गई। घटना कूचबिहार-1 नंबर ब्लॉक के मोवामारी के निवासी रफिकुल इस्लाम के साथ घटी है। आरोप है कि बार-बार 102 नंबर पर फोन करने के बावजूद मातृयान नहीं आया, जिस वजह से बच्ची को टोटो से अस्पताल ले जाना पड़ा, लेकिन अस्पताल पहुंचते ही बच्ची ने दम तोड़ दिया। शनिवार को इस संबंध में कूचबिहार एमजेएन अस्पताल में एक शिकायत पत्र सौंपा गया है। परिजनों का आरोप है कि यदि सही समय पर बच्ची को अस्पताल लाया जाता, तो उसकी जान बच सकती थी।

घटना के विवरण में ज्ञात हुआ है कि कूचबिहार-1 नंबर ब्लॉक के मोवामारी के निवासी रफिकुल इस्लाम की पत्नी अजिमा बिबी ने 17 दिन पहले जुड़वा बच्चियों को जन्म दिया था। शुक्रवार सुबह 11 बजे एक बच्ची की तबीयत बिगड़ने पर अजिमा बिबी ने 102 नंबर पर मातृयान को फोन किया, लेकिन आरोप है कि मातृयान ने आने से मना कर दिया। हालांकि, बच्चे के जन्म के एक वर्ष तक मातृयान द्वारा निःशुल्क परिसेवा देने का सरकारी नियम है। इसके बाद आनन-फानन में बच्ची को टोटो से अस्पताल ले जाया जाता है। ज्ञात हुआ है कि अस्पताल जाते वक्त सुटकाबाड़ी इलाके में अजिमा बिबी की तबीयत बिगड़ने लगी तो स्थानीय लोगों ने मदद का हाथ बढ़ाया और निश्चय यान की व्यवस्था कराई। उधर, बच्ची को अस्पताल पहुंचाने में तीन बज गये। अस्पताल में चिकित्सकों ने बच्ची को मृत घोषित कर दिया।

अजिमा बिबी का कहना है कि इसके बाद भी मातृयान चालक का दुर्व्यवहार कम नहीं हुआ। अजिमा बिबी ने बताया कि बाद में जब उन्होंने मृत बच्ची और उन्हें मातृयान से घर छोड़ देने की बात कही तो उसने अजिमा बिबी को वाहन से नीचे उतार दिया। बाद में निश्चय यान के चालक अनवर होसैन पर फोन करने पर वह आये और अजिमा बिबी को घर पहुंचाया। अनवर हुसैन का आरोप है कि उन्हें भी कुछ एंबुलेंस चालकों द्वारा रोकने का प्रयास किया गया, जिसके बावजूद उन्होंने किसी तरह अजिमा बिबी को घर पहुंचाया।

इस संबंध में कूचबिहार एमजेएन अस्पताल के अधीक्षक जयदेव बर्मन ने कहा कि इस तरह की घटना नहीं होनी चाहिये। सरकार द्वारा एक साल तक जच्चा-बच्चा को परिसेवा देने का नियम है। इस संबंध में मातृयान एजेंसी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। आरोपियों के खिलाफ कड़े कदम उठाये जायेंगे।       

Check Also

मयनागुड़ी में तालाब से वृद्ध का शव बरामद

मयनागुड़ी के पश्चिम सालबाड़ी इलाके में तालाब से एक वृद्ध का शव बरामद किया गया। …