बारिश के बीच भूस्खलन से जनजीवन अस्त-व्यस्त, पर्यटन से जुड़े व्यवसायी चिंतित

सिलीगुड़ी, 21 अक्टूबर (नि.सं.)। पिछले तीन दिनों से पहाड़ी क्षेत्रों में तेज बारिश के बीच भूस्खलन से जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त हो गया है। भूस्खलन की वजह से कई पर्यटक डर के मारे पहाड़ से समतल इलाके में आ गये है।


लेकिन क्या पर्यटक सीजन के दौरान ऐसी स्थिति में पर्यटक फिर से पहाड़ पर आएंगे? अब इसे लेकर पर्यटन से जुड़े विभिन्न लोग चिंतित हैं। हालांकि, अभी तक ज्यादा बुकिंग कैंसिल नहीं हुई हैं। अभी के लिए टूर ऑपरेटर पर्यटकों को कुछ दिनों के लिए दार्जिलिंग, डुआर्स में रख कर रास्ता ठीक होेने के बाद सिक्किम और कलिम्पोंग ले जाने की योजना बनाई है।

पिछले दो दिनों में हुई भारी बारिश से 10 नंबर राष्ट्रीय राजमार्ग सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। जिसके चलते अब भी कई पर्यटक सिक्किम जाने से कतरा रहे हैं। हालांकि, जिला प्रशासन भूस्खलन को हटाकर स्थिति को सामान्य करने का प्रयास कर रहा है।


हिमालयन हॉस्पिटैलिटी एंड टूरिज्म डेवलपमेंट नेटवर्क के सचिव ने कहा कि पूजा सीजन के दौरान कई पर्यटकों द्वारा बुकिंग गई थी। भूस्खलन के कारण हम भी थोड़ा चिंतित हैं, लेकिन उम्मीद है कि दिवाली से पहले स्थिति बेहतर हो जाएगी। अब जो पर्यटक आये हुए है उन्हें डुआर्स और दार्जिलिंग घूम कर सिक्किम में आने के लिये कहा जा रहा है।

हालांकि, कोरोना पाबंदियों के बाद पहाड़ पर पर्यटकों का आना-जाना अभी शुरू ही हुआ था। लेकिन इस तरह के भूस्खलन के कारण पर्यटन व्यवसाय को फिर से घाटा का सामना करना पड़ा है। इसके चलते पहाड़ के वाहन चालक भी चिंतित हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.