बंगाल में हो रहा है गोरखाओं पर अत्याचार, दार्जिलिंग में नहीं हुआ कोई भी विकास : योगी आदित्यनाथ

कर्सियांग, 7 अप्रैल (नि.सं.)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उत्तर बंगाल के दौरे पर पहुंचे है। आज वह तीन जगहों पर जनसभा को संबोधित कर रहे है। योगी आदित्यनाथ की जलपाईगुड़ी, कर्सियांग व उत्तर दिनाजपुर के कालियागंज में जनसभाएं है।


उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कर्सियांग में भारतीय जनता पार्टी के कर्सियांग विधानसभा के उम्मीदवार बिष्णु प्रसाद शर्मा के समर्थन में चुनाव प्रचार करने के लिये पहुंचे। कड़ी सुरक्षा के बीच वह मोंटेवियट खेल मैदान में आयोजित जनसभा स्थल पर पहुंचे। इस दौरान पार्टी समर्थकों द्वारा उनका स्वागत किया गया। चुनावी रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि अगर पश्चिम बंगाल में भाजपा की सरकार बनती है, तो लोगों को केंद्र द्वारा दी जाने वाली सभी सुविधाएं मिलेंगी। विकास और गरीबों तक उनका हक पहुंचाने की इच्छा शक्ति होनी चाहिए। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बंगाल की अब तक की जो भी सरकार रही है वह यहां के गोर्खाओं के साथ न्याय नहीं अन्याय किया है। उनके साथ शोषण किया गया है।

उन्होंने कहा कि सोनार बांग्ला के माध्यम से बंगाल के हिल्स, तराई और डुवार्स की समस्याओं का समाधान किया जाएगा। इसके साथ ही यहां के लोगों के जीवन और जीविका में बदलाव आएगा। उन्होंने कहा कि 2014 से पहले केंद्र में जो भी सरकारें ज्यादा समय तक रही वह समस्या पैदा करने वाली रही है। अपनी सीट बचाने के लिए समस्याओं का अंबार लगा दिया था। इसके बाद 2014 में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भाजपा सरकार आई तो एक-एक कर समस्याओं का समाधान होने लगा। इसका एक ज्वलंत उदाहरण जम्मू और कश्मीर है।यहां की धाराओं के कारण लोग इसे देश का एक अलग हिस्सा मानते थे।उग्रवादी हिंसा और आतंक के बीच लोगों का जीवन व्यतीत करना पड़ता था।


आज वहां शांति और सद्भाव का माहौल देखा जा सकता है। वहां अब कर्सियांग का कोई भी युवक वहां जाकर जमीन खरीद कर अपना घर और रोजगार कर सकता है। इसलिए भाजपा उम्मीदवारों को विजयी बनाए और समस्या का समाधान पाएं।

इस दौरान सांसद राजू बिष्ट, आरबी राई, मन घीसिंग, कल्याण देवान, मनोज देवान, विष्णु प्रसाद शर्मा, अरुण घटानी, अरुण घीसिंग,प्रताप खाति समेत अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.