डिजिटल इंडिया के तहत केंद्र सरकार की परिवहन विभाग को भी डिजिटल करने की योजना शुरू

सिलीगुड़ी,15 फरवरी (नि.सं.)। केंद्र सरकार डिजिटल इंडिया बनाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है।सबसे पहले बैंकिंग सेक्टर को डिजिटल किया गया। अब केंद्र सरकार की परिवहन विभाग को भी डिजिटल करने की योजना शुरू हो गई है।


टोल प्लाजा पर कैश नहीं बल्कि ऑनलाइन भुगतान करना होगा। इसके लिए "फास्ट टैग" नामक कार्ड का उपयोग गाड़ी चालकों को करना होगा। अन्यथा फास्टैग नहीं लगाने पर परिवहन विभाग जुर्माना भी लगाने का प्रावधान कर चुकी है। आज से फांसीदेवा के पश्चिम मादाती टोल प्लाजा पर भी केंद्रीय परिवहन विभाग की नई निर्देशिका जारी कर दिया गया।

आज से टोल प्लाजा के सभी काउंटर को कैशलेस कर दिए जाएंगा,जहां सिर्फ ऑनलाइन भुगतान होगा नगद में कोई भी कारोबार नहीं चलेगी। इसके लिए नेशनल हाईवे टोल प्लाजा के पास विभिन्न बैंक 'फास्ट टैग' कार्ड के लिए कैंप लगा चुकी है और इस कैंप के माध्यम से विभिन्न गाड़ियों के चालक व मालिक फास्ट टैंग गाड़ी पर लगवा रहे है।


जिसके माध्यम से किसी भी टोल प्लाजा से गाड़ी अगर गुजरती है तो टोल प्लाजा में लगे सेंसर उस कार्ड को स्कैन कर सीधे बैंक अकाउंट से पैसे काट लेगी।इस नई योजना से वाहन चालक भी काफी खुश हैं। वाहन चालकों का कहना है कि इस नई योजना 'फास्ट टैंग' कार्ड के माध्यम से उन लोगों को काफी सहूलियत होगा।

फांसीदेवा पश्चिम मादाती टोल प्लाजा के मैनेजर हरमन बार्ड ने बताया कि केंद्रीय परिवहन विभाग की तरफ से यह नई निर्देशिका जारी की गई है। जिसके तहत अब समस्त टोल प्लाजा के कैश काउंटर को बंद कर दिए जाएंगे और ऑनलाइन से ही कारोबार होगा। इसके लिए वाहन चालकों को विभिन्न बैंकों का फास्ट टैग कार्ड को वाहन के शीशे पर लगाना होगा।

मैनेजर हरमन बार्ड ने आगे बताया कि आगामी कल फांसीदेवा पश्चिम मादाती के टोल टैक्स से कैश काउंटरों को बंद कर दिया जायेगा और समस्त काउंटर ऑनलाइन होंगी।वाहन चालक और मालिक अपनी वाहनों पर "फास्ट टैंग कार्ड" नहीं लगाएंगे तो राष्ट्रीय परिवहन विभाग के निर्देशानुसार उन लोगों से जुर्माने के तौर पर दोगुना जुर्माना वसूला जाएगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.