ट्रैफिक विभाग की अनोखी पहल, लोगों की समस्या सुनने के लिए कल जारी करेगा "व्हाट्सएप नंबर"

सिलीगुड़ी, 9 मार्च (नि.सं.)। सिलीगुड़ी मेट्रोपोलिटन की ट्रैफिक विभाग एक नई पहल शुरू करने जा रही है। ट्रैफिक विभाग लोगों की समस्या और शिकायत सुनने के लिए कल से एक व्हाट्सएप नंबर जारी करने जा रही है। जिसके माध्यम से शहरवासी सीधे उक्त व्हाट्सएप नंबर पर शिकायत व समस्या दर्ज करा सकेगी। 


उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ दिनों से सिलीगुड़ी शहर की ट्रैफिक विभाग शहर को जाम मुक्त करने के साथ-साथ मॉडिफाई साइलेंसर के विरुद्ध लगातार अभियान चला रही है।  बताया जा रहा है कि सिलीगुड़ी पुलिस कमिश्नर गौरव शर्मा के निर्देश के बाद ट्रैफिक डीसीपी अभिषेक गुप्ता पिछले कुछ दिनों से अलग -  अलग ट्रैफिक प्वाइंट पर नजर रखने के लिए खुद पहुंच रहे है, ताकि आवाजाही सामन्य रखते हुए किस तरीके से ट्रैफिक कंट्रोल किया जाए। उसके लिए वह प्रत्येक ट्राफिक पॉइंट का विजिट कर रहे है। 

इसी क्रम में आज ट्रैफिक डीसीपी ने दार्जिलिंग मोड़ पर का मुयाना किया। इस दौरान डीसीपी अभिषेक गुप्ता ने सिलीगुड़ी जंक्शन ट्रैफिक गार्ड के आईसी सुबीर दत्ता के साथ मिलकर दार्जिलिंग मोड़ पर लगने वाली जाम की समस्या को समाधान करने पर चर्चा किया। 


इस दौरान ट्रैफिक डीसीपी अभिषेक गुप्ता ने कहा कि मेट्रोपोलिटन पुलिस सिलीगुड़ी को जाम मुक्त रखने के लिए लगातार काम कर रही है। पुलिस कमिश्नर के निर्देश पर वे लोग सड़कों पर उतर कर आवाजाही पर नजर रख रहे है। उन्होंने कहा कि आपको पता है ट्रैफिक विभाग पिछले कुछ समय से मॉडिफाई सैलेंसर के विरुद्ध लगातार कार्रवाई कर रही है।

लोगों को किसी तरीके की कोई समस्या ना हो इस पर भी वह लोग नजर रख रहे हैं। लोगों की संयोगिता के लिए मेट्रोपोलिटन पुलिस एक व्हाट्सएप नंबर भी कल से जारी करने वाला है। इस व्हाट्सएप नंबर पर आम लोग अपनी समस्या बता सकते है। उन्होंने कहा कि ट्रैफिक पुलिस ई-रिक्शा के विरुद्ध सख्त रुख अपना रही है।

निर्देशिका के अनुसार हाईवे या शहर की मुख्य सड़कों पर जो नंबर या बिना नंबर वाली जितनी भी ई-रिक्शा आवाहाजी कर रही है। सभी को जब्त किया जा रहा है। साथ ही जिन जगहों पर ज्यादा जाम लग रहे है। उन सब जगह पर ट्रैफिक खास नजरदारी रख रही ह। सिलीगुड़ी शहर को जाम मुक्त रखने के लिए मेट्रोपोलिटन पुलिस वचनबद्ध है। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.