तृणमूल कांग्रेस के "दीदी के बोलो" के बाद भाजपा ने शुरू की "आर नय अन्याय" अभियान

सिलीगुड़ी, 03 मार्च (नि.सं.)। तृणमूल कांग्रेस ने आम जनता तक पहुंचने के लिए "दीदी के बोलो" अभियान शुरू की थी। जिसके तहत तृणमूल कार्यकर्ता आम लोगों के घर-घर जा कर लोगों से मिलते है। उनकी समस्याओं को सूनते है। इसके बाद उन लोगों को एक कार्ड दिया जाता है। जिसमें एक नंबर होता है। उस नंबर पर फोन कर आम लोग अपनी समस्या सीधे मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से कर सकते है।


अब भाजपा भी आम लोगों तक पहुंचने के लिए जनसंपर्क अभियान के साथ "आर नय अन्याय" अभियान शुरू की है। इस अभियान का उद्घाटन 1 मार्च को गृहमंत्री अमित शाह ने कोलकाता के शहीद मीनार की जनसभा से की है। "आर नय अन्याय" अभियान के तहत भाजपा कार्यकर्ता भी आम लोगों के घर-घर जायेंगे और लोगों की समस्या सुनेंगे। इसके बाद लोगों को एक विशेष फोन नंबर दिया जायेगा। जिसके माध्यम से आम लोग अपनी समस्या को भजापा के उच्च स्तरीय नेता से साझा कर सकेंगे।

इस अभियान के लिए भाजपा ने एक नई कमिटी बनाई है। जो इस अभियान पर निगरानी रखेगी। बुधवार से सिलीगुड़ी में यह अभियान शुरू होगी। सिलीगुड़ी सांगठनिक भाजपा अध्यक्ष प्रवीन अग्रवाल ने कहा कि बंगाल में सत्ताधारी पार्टी का अन्याय बहुत बढ़ गया है। आम लोग तृणमूल के अन्याय से त्रस्त है। इसिलए1 मार्च को गृहमंत्री अमित शाह ने इस "आर नय अन्याय" अभियान की शुरूआत की है।


उन्होंने कहा कि यह अभियान "दीदी के बोलो" अभियान से पूरी तरह अलग है। वहीं दुसरी तरफ दार्जिलिंग जिला तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष रंजन सरकार ने भाजपा के इस अभियान पर कटाक्ष करते हुए कहा कि दरअसल भाजपा लोगों को अपने पार्टी में शामिल करने के लिए यह नई अभियान को शुरू की है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.